आयुर्वेदिक/औषधीय जड़ी-बूटियां शतावरी के कई फायदे हैं, इसका इस्तेमाल करने से पहले सावधानी बरतें। - Hindi Tricks

2021-06-01

आयुर्वेदिक/औषधीय जड़ी-बूटियां शतावरी के कई फायदे हैं, इसका इस्तेमाल करने से पहले सावधानी बरतें।

 

आयुर्वेदिक/औषधीय जड़ी-बूटियां शतावरी
शतावरी के फायदे 

शतावरी हिमालय में पाई जाने वाली एक औषधीय जड़ी बूटी है। भारत में शतावरी को वसंत की सब्जी के रूप में भी जाना जाता है। यह बहुत ही कम कैलोरी वाला आहार है। एक से दो मीटर लंबा शतावरी पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसके सेवन से कई शारीरिक लाभ होते हैं। यह तेजी से वजन घटाने में मदद करता है। साथ ही यह जड़ी-बूटी त्वचा में भी निखार लाती है और उम्र को चेहरे पर हावी होने से रोकती है। जानिए शतावरी के फायदों के बारे में

आयुर्वेदिक/औषधीय जड़ी-बूटियां शतावरी के कई फायदे और नुकसान।


शतावरी के लाभ:

जो लोग अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं उनके लिए शतावरी रामबाण इलाज साबित होती है। इसमें घुलनशील और अघुलनशील फाइबर होता है, जो वजन घटाने में मदद करता है। शतावरी एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होती है, जो हृदय रोग को रोकने में फायदेमंद होती है। शतावरी के सेवन से त्वचा में निखार आता है। इससे चेहरे की झुर्रियां दूर होती हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट ग्लूटाथियोन होता है जो चेहरे को मुंहासों से भी बचाता है। माइग्रेन के कारण होने वाले दर्द से राहत दिलाने में भी शतावरी अहम भूमिका निभाती है।

तनाव और अनिद्रा को दूर करता है


जिन लोगों को नींद नहीं आती उनके लिए भी शतावरी फायदेमंद होती है। इससे तनाव दूर होता है और अनिद्रा की समस्या दूर होती है। शतावरी फोलेट से भरपूर होता है। इसके सेवन से बच्चे में रीढ़ की हड्डी की समस्या नहीं होती है और मानसिक समस्याओं से भी बचा जा सकता है।

शतावरी का इस्तेमाल करने से पहले सावधानी बरतें।

  • शतावरी आमतौर पर औषधीय गुणों से भरपूर होती है, लेकिन कुछ लोगों को नुकसान भी पहुंचा सकती है। इसके साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं। इसलिए इसका इस्तेमाल बहुत ही सावधानी से करना चाहिए।
  • शतावरी को सीधे त्वचा पर लगाने से एलर्जी हो सकती है।
  • जिन लोगों को प्याज से एलर्जी है उन्हें भी शतावरी के इस्तेमाल से एलर्जी हो सकती है।
  • शतावरी का उपयोग करने से पहले किसी विशेषज्ञ से सलाह लें।


Comment