बायोस (BIOS) का फुल फॉर्म क्या है? जाने Bios की सेटिंग और कार्य - Hindi Tricks

2021-05-28

बायोस (BIOS) का फुल फॉर्म क्या है? जाने Bios की सेटिंग और कार्य

 

बायोस का क्या अर्थ है
BIOS Full Form in Hindi

दोस्तों आज हम कंप्यूटर के एक महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर पार्ट के बारे में जानने वाले हैं। जब आप कंप्यूटर को ऑन करते हैं तो एक छोटी सी प्रक्रिया होती है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह प्रक्रिया किस लिए है? यह प्रक्रिया कंप्यूटर के BIOS द्वारा की जाती है इसलिए आज हम इस तकनीकी शब्दकोश पोस्ट में इस BIOS के पूर्ण रूप के बारे में बात करने जा रहे हैं।

आप सभी आज की जानकारी से बहुत कुछ सीख सकते हैं तो दोस्तों आइए जानें कि BIOS का फुल फॉर्म क्या होता है? 


बायोस का फुल फॉर्म क्या है? (BIOS का फुल फॉर्म हिंदी में)

BIOS का पूरा नाम- (Basic Input/Output System) सिस्टम है।

BIOS के बारे में जानकारी

  • दोस्तो BIOS एक सॉफ्टवेयर है और यह कंप्यूटर के मदर बोर्ड से जुड़ा होता है। जब आप कंप्यूटर चालू करते हैं तो यह BIOS सबसे पहले चालू होता है और यह BIOS RAM, प्रोसेसर, कीबोर्ड, हार्ड डिस्क को पहचानता है और उन सभी को कॉन्फ़िगर करता है।
  • BIOS कंप्यूटर की ROM मेमोरी में स्थित होता है जो कंप्यूटर के सभी हार्डवेयर भागों की पहचान करता है। BIOS का मुख्य कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम को बूट करना है।
  • BIOS आपके आदेश के अनुसार सीधे सेट-अप CMOS (पूरक धातु ऑक्साइड सेमीकंडक्टर) की जांच करता है और फिर तय करता है कि कौन सा डिवाइस किस सिस्टम से बूट किया गया है। यह सब तैयार करने के बाद जब हम ऑपरेटिंग सिस्टम को कमांड करते हैं तो कंप्यूटर चालू हो जाता है और हम उसका इस्तेमाल करते हैं।
  • सभी कंप्यूटरों के मदरबोर्ड में एक ही चिप में BIOS स्थापित होता है। CPU प्रोग्राम हमेशा इंस्टाल होते हैं क्योंकि वे BIOS में नहीं होते हैं। यह चिप मदरबोर्ड में एम्बेडेड होती है क्योंकि यह ROM मेमोरी में स्टोर होती है। इस BIOS सॉफ़्टवेयर को कंप्यूटर से हटाया नहीं जा सकता है और न ही मेमोरी को हटाया जा सकता है। यदि आप BIOS प्रोग्राम को रीप्रोग्राम करना चाहते हैं, तो आप कर सकते हैं।

BIOS का क्या कार्य है


1. BIOS सेटिंग की जाँच करना: यह पहले CMOS सेटिंग की जाँच करता है और फिर मैन्युअल रूप से निर्धारित करता है कि अन्य सभी सेटिंग्स सही हैं या नहीं।

2. कंप्यूटर के सभी ड्राइवरों को लोड करने के लिए: ड्राइवर कंप्यूटर सिस्टम और कनेक्टेड डिवाइस के बीच बेस और इंटरफेस के रूप में कार्य करता है। तो BIOS कंप्यूटर के सभी ड्राइवरों को लोड करता है।

3. कंप्यूटर रजिस्टर: BIOS उपयोग के लिए सभी कंप्यूटर रजिस्टरों की जांच करता है।

4. पावर ऑन सेल्फ टेस्ट (POST): इसके अंदर BIOS कंप्यूटर से जुड़े अन्य उपकरणों जैसे कि कीबोर्ड और माउस की भी जांच करता है कि क्या सभी डिवाइस जुड़े हुए हैं। इसे पावर ऑन सेल्फ टेस्ट भी कहा जा सकता है।

5. BIOS की स्थापना: जब आप कंप्यूटर चालू करते हैं तो आप एक विशेष कुंजी के साथ BIOS सेटिंग्स तक पहुंच सकते हैं। BIOS पहले इस सेटिंग को लोड करता है और वह है BIOS सेट-अप।

6. बूट डिवाइस की जांच और लोड हो रहा है: यह सब करने के बाद BIOS बूट करने योग्य माध्यम का पता लगाता है और फिर इसे पढ़ता है और फिर आवश्यक फ़ाइल को रैम में लोड करता है। तभी आपका कंप्यूटर चालू हो सकता है और आप इसे आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं।

BIOS सेटिंग कैसे खोलें?


सबसे पहले कंप्यूटर को ऑन करें और स्क्रीन ऑन होते ही इन चारों में से किसी को भी बर्बाद किए बिना कीबोर्ड पर "ESC, Delete, F2, F12" दबाएं। इसके बाद आपकी BIOS सेटिंग्स खुल जाएंगी। कुछ लैपटॉप में आप BIOS खोलने के लिए F8 कुंजी भी दबा सकते हैं।

BIOS खोलने की कुंजी आपके मदरबोर्ड के आधार पर भिन्न हो सकती है लेकिन ऊपर बताई गई कोई भी कुंजी आपके काम आएगी।

यदि आप Windows लोगो दिखाई देने पर इस विशेष कुंजी को दबाते हैं, तो यह BIOS सेटिंग नहीं खोलेगा, इसलिए इस विशेष कुंजी का उपयोग कंप्यूटर के खुलने पर ही करें।


Comment